जटामांसी – एक नहीं अनेक रोग में है गुणकारी

Date:

जटामांसी (Nardostachys Jatamansi) – जटामांसी प्राकृतिक रूप में उपयोग औषधि

जटामांसी
जटामांसी
  • जटामांसी
  • जटामांसी
  • images
  • जटामांसी१
  • जटामांसी
वानस्पतिक नाम जटामांसी (Nardostachys Jatamansi)
परिवारवेलेरियानेई(VALERIANAEAE)
स्थानीय नामसंस्कृत पर्यायवाची शब्द-तपस्विनी,जटामांसी, विलोमासा, भूत जटा
नालन्दानालम गंधम ददाति – अच्छी सुगंध देता है,
पिशितापेशीय प्रकंद(muscular rhizome)
हिन्दी नामजटामासी
तेलुगु नामजटामांसी
अंग्रेजी नामSpikenard
मराठी और गुजराती नामजटामांसी
तमिल और कन्नड़ और मलयालम नाम-जटामामसी
चरक संहितासजनस्थापना -चेतना बहाल करने में उपयोग की जाने वाली जड़ी-बूटियों का समूह
तिक्त स्कंधकड़वे स्वाद वाली जड़ी-बूटियों का समूह।
सुश्रुत संहिताइलाजनादि गण, इलादि गण
वाग्भटअंजनादि गण, इलादिगण
विभिन्न प्रजातियाँजटामांसी और गंधमांसी जटा और भुटाकेसी) भुटाकेसी या गंधमांसी की पहचान सेलिनम टेनुइरोलियम वॉल से की जाती है।
प्रमुख रासायनिक घटकएक्टिनिडाइन, कैरोटीन, अरिस्टोलेंस; कैलेरेन्स, कैरेनल, एलेमोल, ड्रोअरिस्टोलीन, बी-यूडेस्मोल; जटामोल; ए एवं बी; जटामांसिक एसिड, जटामानसोन, नार्डोल, नार्डोस्टैचोनॉल, नार्डोस्टैचोन, पचौली, विरोलिन, एंजेलिविन, जटामंसिन, जटामंसिनोल, ओरोसेलोल आदि। (Jatamansic acid, Jatamansone, Nardol, Nardostachonol, Nardostachone, Patchouli, Virolin, Angelivin, Jatamansin, Jatamansinol, Oroselol etc.)
रसतिक्त,मधुर,कषाय
खुराक- पाउडर1-3 ग्राम विभाजित खुराक में
(संदर्भ: सचित्र द्रव्यगुण विज्ञान, खंड II, डॉ. जेएलएन शास्त्री द्वारा)
वितरण- यह हिमालय के अल्पाइन क्षेत्रों में 11,000-15000 फीट पर पाया जाता है; कुमाऊं से सिक्किम तक 17000 फीट की ऊंचाई और भूटान तक फैला हुआ है।

जटामांसी, जिसे वैज्ञानिक भाषा में Nardostachys jatamansi के नाम से जाना जाता है, एक औषधीय जड़ी-बूटी है जो पहाड़ी क्षेत्रों में पाई जाती है। यह जड़ी-बूटी प्राकृतिक रूप से उगती है और इसे आयुर्वेदिक चिकित्सा में उपयोग किया जाता है। जटामांसी आंतरिक रूप से शांति और तनाव मुक्ति प्रदान करने की क्षमता के लिए जानी जाती है। यह मस्तिष्क को शांत करने, नींद को बढ़ाने और मानसिक स्थिरता को सुधारने में मदद कर सकती है।

Nardostachys Jatamansi
जटामांसी - एक नहीं अनेक रोग में है गुणकारी 8

जटामानसी के प्रकार (जटामानसी की विभिन्न प्रजातियाँ)

  • भूतजटामानसी(Nardostachys jatamansi): यह सबसे प्रसिद्ध प्रकार है और आयुर्वेदिक चिकित्सा में उपयोग होने के लिए व्यापक रूप से प्रसिद्ध है। इसकी जड़ें औषधीय गुणों से भरी होती हैं और रोगों के उपचार के लिए इस्तेमाल की जाती हैं।
  • गंधमांसी जटा या भुटाकेसी: यह प्रकार भूतजटामानसी की एक संबंधित प्रजाति है, जो विशेष रूप से हिमालयन क्षेत्र में पाया जाता है। इसकी जड़ें भी औषधीय गुणों से भरी होती हैं और विभिन्न रोगों के इलाज में उपयोगी होती हैं। भुटाकेसी या गंधमांसी की पहचान सेलिनम टेनुइरोलियम वॉल से की जाती है।

जटामांसी के गुण (जटामानसी के लाभ)

जटामांसी एक प्रमुख औषधीय जड़ी-बूटी है जिसे आयुर्वेद में महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे धार्मिक और आयुर्वेदिक ग्रंथों में विस्तार से वर्णित किया गया है। यह एक सुप्रसिद्ध मस्तिष्क संबंधी औषधि है और इसे इंडियन मेडिकल साइंसेस रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईएमएसआर) द्वारा भी मान्यता प्राप्त है।

जटामानसी के उपयोग से कई लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं। यह अवश्यकता के अनुसार मस्तिष्क को शांति प्रदान करती है और चिंता, तनाव, अवसाद और नींद की समस्याओं को कम करती है। यह मस्तिष्क की क्षमता बढ़ाती है और मेमोरी को सुधारती है। इसके साथ ही, जटामानसी शरीर को ठंडक प्रदान करती है और पीड़ा और सूजन को कम करने में मदद करती है।

जटामांसी का उपयोग

यहां जटामांसी के कुछ महत्वपूर्ण उपयोग की सूची है:

  • तनाव नियंत्रण: जटामांसी मस्तिष्क पर शांतिपूर्ण प्रभाव डालती है और तनाव को कम करने में मदद करती है। यह मानसिक स्थिरता को बढ़ाने और चिंता को कम करने में सक्षम होती है।
  • नींद की समस्याओं का समाधान: जटामांसी मधुमेह और नींद की समस्याओं का समाधान प्रदान कर सकती है। इसका नियमित सेवन नींद की गुणवत्ता को बेहतर बना सकता है और अनिद्रा से राहत दिला सकता है।
  • मस्तिष्क संबंधी रोगों का इलाज: जटामांसी मस्तिष्क संबंधी रोगों के इलाज में भी मददगार साबित हो सकती है। यह मस्तिष्क की क्षमता को सुधारकर मस्तिष्कीय कार्यों को स्थायीत्व प्रदान कर सकती है।
  • हृदय स्वास्थ्य:जटामांसी भी हृदय स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हो सकती है। इसका नियमित सेवन हृदय की क्षमता को बढ़ाने और हृदय रोगों के खतरे को कम करने में मदद कर सकता है।

यहां कुछ और गुण हैं जो जटामांसी में पाए जाते हैं: मस्तिष्क की सुरक्षा, शरीर को शक्ति प्रदान करना, मस्तिष्कीय कमजोरी को दूर करना और शरीर की आंतरिक शक्ति को बढ़ाना। इसके अतिरिक्त, जटामांसी मधुमेह, हृदय रोग, रक्तचाप, और सूजन के इलाज में भी उपयोगी हो सकती है।

1. चिकित्सा में उपयोग

जटामानसी आयुर्वेदिक चिकित्सा में एक महत्वपूर्ण औषधि है और इसका उपयोग विभिन्न रोगों के इलाज के लिए किया जाता है। यह तनाव, चिंता, अवसाद, मस्तिष्क संबंधी समस्याएं और नींद की समस्याओं को दूर करने में मदद करती है।

2. सौंदर्य में उपयोग

जटामानसी को सौंदर्य उत्पादों में भी उपयोग किया जाता है। इसके तेल का उपयोग मसाज और त्वचा की देखभाल के लिए किया जाता है। यह त्वचा को शांत करता है, उसमें चमक लाता है और उसे स्वस्थ और जीवंत बनाता है।

3. ब्रह्मचर्य के लिए विशेष उपयोग

जटामांसी का विशेष उपयोग ब्रह्मचर्य के लिए किया जाता है। ब्रह्मचर्य एक प्राचीन आयुर्वेदिक अभ्यास है जिसका मतलब होता है ‘ब्रह्मा की चर्या’ यानि ब्रह्मा की सदगुणों का अनुसरण करना। यह प्रयास उन लोगों के लिए होता है जो अपनी ब्रह्मचर्य शक्ति को बढ़ाना चाहते हैं और अपनी इंद्रियों को नियंत्रित करना चाहते हैं। जटामांसी का सेवन इस अभ्यास को संचालित करने में सहायक होता है और वैराग्य और ध्यान को प्रोत्साहित करता है।

4. जटामांसी का उपयोग स्नान के लिए

जटामांसी का ताजगी और तनाव को कम करने के लिए स्नान में भी किया जा सकता है। आप जटामांसी का ताजगी और शांति देने वाला एक देसी नमक स्नान कर सकते हैं। इसके लिए, एक बाथटब या नहाने की टब में गर्म पानी भरें और उसमें जटामांसी तेल का एक छोटा स्पून डालें। इसे अपने स्नान के दौरान मिलाएं और ठंडे पानी से धो लें। यह आपके मस्तिष्क को शांति देगा और आपको ताजगी और ऊर्जा प्रदान करेगा।

जटामांसी के नुकसान

जटामानसी के सेवन से अत्यधिक मात्रा में नुकसान हो सकता है। यह गर्भावस्था के दौरान सावधानीपूर्वक उपयोग किया जाना चाहिए। इसके अतिरिक्त, अगर कोई व्यक्ति किसी तरह की एलर्जी या प्रतिक्रिया के लिए प्रवृत्त होता है, तो उसे जटामानसी का सेवन नहीं करना चाहिए। सर्वाधिक मात्रा में सेवन करने से भी नुकसान हो सकता है, इसलिए इसे केवल निर्धारित मात्रा में ही उपयोग करना चाहिए। जटामानसी का सेवन करने से पहले आपको अपने वैद्य से परामर्श लेना चाहिए। जटामानसी के सेवन से नींद आ सकती है, इसलिए यह जगहती गाड़ी चलाने और मशीनों को चलाने के समय सावधानी बरतें।

जटामांसी का सेवन कैसे करें

जटामांसी का सेवन करने के विभिन्न तरीके हैं। यह खाने के रूप में लिया जा सकता है, जिससे शरीर को इसके गुणों का लाभ मिलता है।

जटामांसी का पाउडर के रूप में सेवन

आप जटामांसी का पाउडर भी ताजगी के लिए उपयोग कर सकते हैं। इसकी जड़ें पहले से ही धनिये में लपेटी जाती हैं और उन्हें उगाने के बाद निकाला जाता है। इसके बाद, जड़ों को साफ करके सूखाया जाता है और बाद में पीस दिया जाता है। इस प्रक्रिया के बाद, जटामांसी का पाउडर तैयार हो जाता है, जो उपयोग के लिए उपलब्ध होता है।

जटामांसी का तेल

जटामांसी का तेल मसाज के लिए उपयोगी होता है। इसका नियमित इस्तेमाल मस्तिष्क को शांति देता है, तनाव को कम करता है, और मन को स्थिर करता है। आप इसे अपनी मस्तिष्क संबंधी समस्याओं के इलाज के लिए उपयोग कर सकते हैं, जैसे कि अवसाद, चिंता, और अशांति। जटामांसी के तेल को हल्के हाथ से मसाज करें और सवेरे और शाम को इस्तेमाल करें ताकि इसके गुणों का अच्छी तरह से लाभ मिल सके।

सावधानियाँ और समाप्ति

जटामानसी एक आयुर्वेदिक औषधि है जिसका विशेष महत्व है। इसका उपयोग विभिन्न रोगों के इलाज में किया जाता है, लेकिन इसे सावधानीपूर्वक उपयोग करना चाहिए और अतिरिक्त मात्रा में सेवन से बचना चाहिए। इससे पहले इसके उपयोग से जुड़ी सभी जरूरी जानकारी को विशेषज्ञ से पुष्टि कर लेना चाहिए।

प्रश्नों के उत्तर

1. जटामानसी क्या है?

जटामानसी एक औषधीय पौधा है जिसका वैज्ञानिक नाम “Nardostachys jatamansi” है। इसकी जड़ें औषधीय गुणों से भरी होती हैं और इसका आयुर्वेदिक चिकित्सा में व्यापक उपयोग होता है।

2. जटामानसी के क्या लाभ हैं?

जटामानसी के उपयोग से तनाव, चिंता, अवसाद, मस्तिष्क संबंधी समस्याएं और नींद की समस्याओं को कम किया जा सकता है। इसके साथ ही, यह मस्तिष्क की क्षमता बढ़ाती है और मेमोरी को सुधारती है।

3. क्या जटामानसी के सेवन से किसी तरह का नुकसान हो सकता है?

जटामानसी के सेवन से नुकसान हो सकता है अगर इसे अतिरिक्त मात्रा में लिया जाता है। इसलिए, इसे निर्धारित मात्रा में ही उपयोग करना चाहिए और सावधानीपूर्वक इसका सेवन करना चाहिए।

4. जटामानसी का उपयोग किस तरह से किया जाता है?

जटामानसी का उपयोग विभिन्न रूपों में किया जाता है। इसकी जड़ का प्रयोग पाउडर, तेल, अर्क और रस के रूप में किया जा सकता है। इसे चिकित्सा में, सौंदर्य में और आयुर्वेदिक उत्पादों में उपयोग किया जाता है।

5. क्या जटामानसी की किसी खास विशेषता है?

जी हां, जटामानसी की एक विशेषता है कि यह मस्तिष्क को शांति प्रदान करती है और मस्तिष्क को स्थिरता प्रदान करती है। यह मन की स्पष्टता और ध्यान को बढ़ाने में मदद करती है।

Video Credit : Acharya Balkrishna


कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

श्री संतोषी माँ चालीसा Santoshi Chalisa Lyrics

श्री संतोषी माँ चालीसा Shri Santoshi Maa Chalisa Lyrics...

श्री गणेश चालीसा Ganesh Chalisa

श्री गणेश चालीसा Shree Ganesh Chalisa श्री गणेश चालीसा भगवान...

श्री विष्णु चालीसा Shri Vishnu Chalisa

श्री विष्णु चालीसा Shri Vishnu Chalisa Lyrics श्री विष्णु चालीसा...

श्री ब्रह्मा चालीसा Shri Brahma Chalisa

श्री ब्रह्मा चालीसा Shri Brahma Chalisa श्री ब्रह्मा चालीसा भगवान...
Translate »
error: Content is protected !!