लिंग पुराण

Post Date:

लिंग पुराण का परिचय Introduction to Linga Purana

लिंग पुराण हिंदू धर्म के अठारह प्रमुख पुराणों में से एक है। यह ग्रंथ भगवान शिव की महिमा और उनके विविध रूपों का वर्णन करता है। इस पुराण में शिवलिंग की उत्पत्ति, उनकी पूजा विधि और उनके भक्तों की कहानियाँ शामिल हैं।

भगवान शिव की महिमा Glory of Lord Shiva

भगवान शिव को संहारक और सृजनकर्ता के रूप में पूजा जाता है। लिंग पुराण में उनकी अद्भुत लीलाओं और शक्तियों का वर्णन है। उनके विविध रूपों, जैसे अर्धनारीश्वर, नटराज, और महाकाल, के माध्यम से उनकी महिमा को दर्शाया गया है। लिंग पुराण में शिव की पूजा का महत्व भी बताया गया है, जो उनके भक्तों को मोक्ष की ओर ले जाता है।

लिंग पुराण का अध्ययन न केवल धार्मिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण है, बल्कि यह आध्यात्मिक विकास और आत्मज्ञान के लिए भी उपयोगी है। यह ग्रंथ हमें शिव की अनंत महिमा और उनके अद्वितीय व्यक्तित्व की गहराइयों में ले जाता है।

लिंग पुराण का महत्व Importance of Linga Purana

लिंग पुराण की महत्वपूर्णता इसके आध्यात्मिक और धार्मिक महत्व में निहित है। यह पुराण न केवल भगवान शिव की महिमा का बखान करता है, बल्कि इसमें ब्रह्मांड की उत्पत्ति, मानव जीवन के उद्देश्य, और धर्म के विभिन्न सिद्धांतों का भी विस्तार से वर्णन किया गया है। भगवान शिव को समझने और उनके विभिन्न रूपों को जानने के लिए यह ग्रंथ अत्यंत महत्वपूर्ण है।

लिंग पुराण२

लिंग पुराण की रचना Composition of Linga Purana

लिङ्गपुराण को दो खंडों में विभाजित किया गया है: पहला खंड पूर्व भाग और दूसरा खंड उत्तर भाग। पूर्व भाग में एक सो आठ अध्याय है और उतरभागमें पचपन अध्याय है।

पूर्व भाग का विवरण

इसके पूर्वभागमें माहेश्वरयोगका प्रतिपादन, सदाशिवके ध्यानका स्वरूप, योगसाधना, भगवान् शिवकी प्राप्तिके उपायोंका वर्णन, भक्तियोगका माहात्म्य, भगवान् शिवके सद्योजात, वामदेव आदि अवतारोंकी कथा, ज्योतिल्लिङ्गके प्रादुर्भावका आख्यान, अट्ठाईस व्यासों तथा अट्ठाईस शिवावतारोंकी कथा, लिङ्गार्चन-विधि तथा लिङ्गाभिषेककी महिमा, भस्म एवं रुद्राक्ष-धारणकी महिमा, शिलादपुत्र नन्दीश्वरके आविर्भावका आख्यान, भुवनसन्निवेश, ज्योतिश्चक्रका स्वरूप, सूर्य-चन्द्रवंश-वर्णन, शिवभक्ततण्डीप्रोक्त शिवसहस्त्रनामस्तोत्र, शिवके निर्गुण एवं सगुण स्वरूपका निरूपण, शिवपूजाकी महिमा, पाशुपतव्रतका उपदेश, सदाचार, शौचाचार, द्रव्यशुद्धि एवं अशौच-निरूपण, अविमुक्तक्षेत्र वाराणसीका माहात्म्य, दक्षपुत्री सती एवं हिमाद्रिजा पार्वतीका आख्यान, भगवान् शिव एवं पार्वतीके विवाहकी मांगलिक कथा तथा शिवभक्त उपमन्युकी शिवनिष्ठा आदि विषयोंका वर्णन है।

उत्तर भाग का विवरण

उत्तरभागमें भगवद्गुणगानकी महिमा, विष्णुभक्तोंके लक्षण, लक्ष्मी एवं अलक्ष्मी (दरिद्रा) के प्रादुर्भावका रोचक वृत्तान्त, दरिद्राके निवासयोग्य स्थान, द्वादशाक्षर मन्त्रकी महिमा, पशुपाशविमोचन, भगवान् शिव एवं पार्वतीकी विभूतियोंका निदर्शन, शिवकी अष्टमूर्तियोंकी कथा, शिवाराधना, शिवदीक्षा-विधान, तुलापुरुष आदि षोडश महादानोंकी विधि, जीवच्छ्राद्धका माहात्म्य तथा मृत्युंजय- मन्त्र-विधान आदि विषय विवेचित. हैं। अन्तमें लिङ्गमहापुराणके श्रवण-मनन एवं पाठकी फलश्रुति निरूपित है। इसमें बताया गया है कि किस प्रकार से धार्मिक अनुष्ठानों को संपन्न किया जाए और उनके द्वारा प्राप्त होने वाले फलों का भी वर्णन किया गया है। व्रत और त्यौहार हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं और लिंग पुराण में इनका विस्तृत विवरण मिलता है।

लिंग पुराण और शिव भक्ति Linga Purana and Shiva Bhakti

लिंग पुराण शिव भक्ति का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। इसमें बताया गया है कि किस प्रकार से भगवान शिव की भक्ति की जाए और उनके आशीर्वाद से जीवन में सुख और समृद्धि प्राप्त की जाए। शिव भक्ति का महत्व इस पुराण में बहुत विस्तार से समझाया गया है और यह भी बताया गया है कि शिव की भक्ति से व्यक्ति को किस प्रकार के लाभ मिलते हैं।

लिंग पुराण और योग Linga Purana and Yoga

लिंग पुराण में योग का भी महत्वपूर्ण स्थान है। इसमें विभिन्न योगासन, प्राणायाम, और ध्यान के तरीकों का वर्णन किया गया है। योग को जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग माना गया है और लिंग पुराण में इसके विभिन्न पहलुओं का विस्तार से वर्णन किया गया है।

लिंग पुराण और तंत्र विद्या Linga Purana and Tantra Vidya

लिंग पुराण में तंत्र विद्या का भी उल्लेख है। तंत्र विद्या को एक रहस्यमय और गूढ़ विद्या माना जाता है, और इस पुराण में इसके विभिन्न सिद्धांतों और प्रयोगों का विवरण दिया गया है। तंत्र विद्या के माध्यम से किस प्रकार से आध्यात्मिक उन्नति की जा सकती है, इसका वर्णन इस ग्रंथ में मिलता है।

Linga Purana 1

लिंग पुराण की हिंदी में पुस्तक Linga Purana book in hindi

लिंग पुराण अंग्रजी की पुस्तक भाग १ Linga Purana English Book Part 1

लिंग पुराण अंग्रजी की पुस्तक भाग २ Linga Purana English Book Part 2

लिंग पुराण की गीता प्रेश की पुस्तक | श्रीलिंगमहापुराण संस्कृत एवं हिन्दी अनुवाद) Geeta Presh’s book of Linga Purana

1. लिंग पुराण क्या है? What is the meaning of Linga Purana?

लिंग पुराण हिंदू धर्म का एक महत्वपूर्ण पुराण है जो भगवान शिव की महिमा और उनकी पूजा विधियों पर आधारित है। इसमें शिवलिंग की पूजा, शिव की विभिन्न कथाएँ और धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष के उपदेश शामिल हैं।

2. लिंग पुराण का रचनाकाल कब है? When was the Linga Purana written?

लिंग पुराण की रचना का सही समय ज्ञात नहीं है, लेकिन यह अनुमानित है कि यह ग्रंथ गुप्त काल (चौथी से छठी शताब्दी) के दौरान लिखा गया था। इसके कई संस्करण समय के साथ विकसित हुए हैं।

3. लिंग पुराण में कितने अध्याय हैं?

लिंग पुराण में कुल 163 अध्याय (अध्या) हैं। यह दो भागों में विभाजित है: पहला भाग में 108 अध्याय हैं और दूसरा भाग में 55 अध्याय हैं।

4. लिंग पुराण में किस प्रकार की कथाएँ मिलती हैं?

लिंग पुराण में भगवान शिव की विभिन्न लीलाओं, रुद्र अवतार, शिवलिंग की उत्पत्ति, और शिव-पार्वती के विवाह सहित कई पौराणिक कथाएँ शामिल हैं। इसके साथ ही, इसमें भक्ति, ज्ञान और धर्म के सिद्धांतों का भी वर्णन है।

5. लिंग पुराण का धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व क्या है?

लिंग पुराण का धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व बहुत अधिक है। यह ग्रंथ शिवभक्तों के लिए प्रमुख धार्मिक ग्रंथ है और शिवलिंग की पूजा विधियों को विस्तार से बताता है। इसके साथ ही, यह हिंदू धर्म के चार पुरुषार्थ (धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष) के सिद्धांतों को भी समाहित करता है, जिससे यह धार्मिक और नैतिक शिक्षा का महत्वपूर्ण स्रोत बनता है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

वामन पुराण

वामन पुराण - वामन अवतार की संपूर्ण कहानी ...

कूर्म पुराण

कुर्म अवतार Kurma Avatarकूर्म (संस्कृत: कूर्म, शाब्दिक अर्थ 'कछुआ')...

श्री गिरिराज चालीसा Shri Giriraj Chalisa

श्री गिरिराज चालीसा भगवान श्रीकृष्ण के गोवर्धन स्वरूप को...

श्री तुलसी चालीसा Sri Tulsi Chalisa Lyrics

श्री तुलसी चालीसा Sri Tulsi Chalisa Lyricsयह चालीसा माता...
error: Content is protected !!