हे प्रभु तुझारी कीर्ति को गाये ।।

Post Date:

हे प्रभु तुम्हारी कीर्ति को गायें न क्या करें। 
चरणों में सदा शीश झुकायें न क्यों करें । हे प्रभु० ॥

झूठा जगत का नाता है हग खोल लख लिया । 
तुमको भी अगर अपना बनायें न क्या करें" । हे प्रभु० ॥
 
सुत नारि मात भ्रात ये मतलब के हैं सगे । 
फिर भी भजन में चित्त लगायें न क्या करें । हे प्रभु० ॥

यश गायके जब वेद थके भेद न पाया । 
तब हम तुम्हें अभेद बतायें न क्या करें । हे प्रभु० ॥

सब जग के कर्ता, हर्ता दुःख आपही विभो । 
"क्यों मनीलाल तुमकोमी ध्याये न क्या करे । हे प्रभु० ॥

हे प्रभु तुझारी कीर्ति को गाये न क्या करे ॥


Bhajan By : मनीलाल (Ramayan Tarj RadheSyam)
Image Credit: artiswell

टिका : यह प्रार्थना रामयण तर्ज राधेश्याम - भाग २६ में शे लिखी गयी छे. इसका हेतु केवल ज्ञान प्राप्ति के लिए हें.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

वामन पुराण

वामन पुराण - वामन अवतार की संपूर्ण कहानी ...

कूर्म पुराण

कुर्म अवतार Kurma Avatarकूर्म (संस्कृत: कूर्म, शाब्दिक अर्थ 'कछुआ')...

श्री गिरिराज चालीसा Shri Giriraj Chalisa

श्री गिरिराज चालीसा भगवान श्रीकृष्ण के गोवर्धन स्वरूप को...

श्री तुलसी चालीसा Sri Tulsi Chalisa Lyrics

श्री तुलसी चालीसा Sri Tulsi Chalisa Lyricsयह चालीसा माता...
error: Content is protected !!