भज रघुनन्दन – प्रार्थना

Post Date:

भज रघुनन्दन असुर निकन्दन त्रिभुवन बंदन विश्वपतिम् ।
मुनिजन मानस हंस मनोहर सर्वाधार विशुद्ध मतिम् ॥


मय्यादा पुरुषोत्तम सत्तम निंदन कोटि अनंग छविम ।
ज्ञानगम्य अतिरम्य रमेसं भासित दीप्ति अनेक रविम् ॥


ब्रह्मण्यं विज्ञान निधानं सत्य प्रतिज्ञ कृपानिलय |
आगम निगम प्रथा संस्थापन धर्म धुरन्धुर बर अजयम् ॥


शरणागत वत्सल मंगलमय दुरितक्षयं गुण गंभीरम् ।
शांत सरण सर्वज्ञ सुखाकर जने प्रण पालन रणवीरम् ॥


भुक्ति मुक्ति दायक अद्वैतं अनवद्यं अनघं रामम् ।
रट मणिलाल निरंतर हितयुत नीलांबुज इवतन श्यामम् ॥


भज रघुनन्दन असुर निकन्द त्रिभुवनन बन्दन विश्वपतिम् ॥

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

वामन पुराण

वामन पुराण - वामन अवतार की संपूर्ण कहानी ...

कूर्म पुराण

कुर्म अवतार Kurma Avatarकूर्म (संस्कृत: कूर्म, शाब्दिक अर्थ 'कछुआ')...

श्री गिरिराज चालीसा Shri Giriraj Chalisa

श्री गिरिराज चालीसा भगवान श्रीकृष्ण के गोवर्धन स्वरूप को...

श्री तुलसी चालीसा Sri Tulsi Chalisa Lyrics

श्री तुलसी चालीसा Sri Tulsi Chalisa Lyricsयह चालीसा माता...
error: Content is protected !!