वृषभ संक्रांति(ऋषभ संक्रांति)

Date:





वृषभ संक्रांति कब है?

सूर्य एक साल बाद 15 मई 2023 को वृष राशि में प्रवेश करने जा रहे हैं। वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य को एक राशि से दूसरी राशि में जाने में लगभग एक माह का समय लगता है। इसके अनुसार एक राशि में पुन: भ्रमण करने में एक वर्ष का समय लगता है।सूर्य के इस गोचर को वृषभ संक्रांति कहते हैं।वृषभ संक्रांति को ऋतु परिवर्तन की शुरुआत भी माना जाता है।

वृषभ संक्रांति क्या है?

वृषभ का अर्थ होता है बैल और भगवान शिव के प्रिय वाहन नंदीजी भी बैल थे, इसलिए इस दिन शिवजी और गौदान की पूजा शास्त्रों में दर्ज की गई है। ऐसी भी मान्यता है कि भगवान श्रीकृष्ण इस दिन विशेष गाय की पूजा करते थे।

कैसे मनाई जाती है वृषभ संक्रांति ?

वृषभ संक्रांति को भारत के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है।

  • वृषभ संक्रांति को तमिल कैलेंडर में वेगसी मासूम के आगमन के रूप में माना जाता है।
  • जबकि दक्षिण भारत में इसे वृषभ गोचर के नाम से जाना जाता है।
  • बंगाली कैलेंडर में इसे ज्योट्टो मुश का प्रतीक माना जाता है।
  • ब्रश को ओडिशा में संक्रांति के नाम से जाना जाता है।
  • मलयालम कैलेंडर में इसे ईदम मासम कहा जाता है।
  • अत: सौर पंचांग के अनुसार इस पर्व को एक नई ऋतु के प्रारंभ का प्रतीक भी माना जाता है।

वृष संक्रांति का क्या है महत्व, इस दिन क्या करना चाहिए . ?

सनातन धर्म के अनुसार वृषभ संक्रांति के दिन गौदान का विशेष महत्व है। इसलिए इस दिन बहुत से लोग ब्राह्मणों की बलि देते थे। अब ऐसा कम ही देखने को मिलता है, लेकिन पहले के समय में गौदान को बहुत ही शुभ माना जाता था इसलिए उस समय लोग अपने गांव में रहने वाले ब्राह्मणों को वृषभ संक्रांति के दिन गौदान किया करते थे। लेकिन, वर्तमान स्थिति के अनुसार यह संभव नहीं है, लेकिन गौदान के स्थान पर आप इस दिन व्रत भी रख सकते हैं।

वृषभ संक्रांति के व्रत की विधि क्या है?

वृष संक्रांति में व्रत का भी महत्व है। पुराणों में लिखा है कि इस दिन सभी देवी-देवता भी व्रत रखते हैं। लेकिन, इसके कुछ नियम हैं। जिसमें वृषभ संक्रांति के दिन सुबह जल्दी उठकर सूर्योदय से पहले स्नान कर सबसे पहले भगवान शिव की पूजा करें। इस दिन शिव के ऋषभरुद्र रूप की पूजा करनी होती है।इस दिन व्रत रखकर या फल खाकर भगवान शिव की पूजा की जा सकती है। व्रत करने के बाद रात को पूरी तरह से जमीन पर सोएं।

shiv 1
वृषभ संक्रांति(ऋषभ संक्रांति) 4

वृषभ संक्रांति में दान का क्या महत्व है?

गौदान का आज के दिन विशेष महत्व है, लेकिन यदि आप किसी कारण से गौदान करने में असमर्थ हैं, तो गरीबों, ब्राह्मणों और जरूरतमंद लोगों को जो कुछ भी दान कर सकते हैं, करने की प्रथा है। यह दान भी भगवान तक अवश्य पहुंचता है। शास्त्रों के अनुसार जो लोग ऋषभ संक्रांति का व्रत करते हैं और गरीबों को खाने-पीने की सामग्री और अन्य आवश्यक वस्तुएं दान करते हैं, उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। वृषभ संक्रांति के दिन आप भगवान शिव की मूर्ति के पास बैठकर मंत्र जाप कर सकते हैं और इस दिन पितृ तर्पण का भी बहुत महत्व होता है। जिनके परिवार के सदस्यों की मृत्यु हो गई है वे एक विशेष नदी तट पर जाते हैं और वृषभ संक्रांति के दिन पितृ तर्पण समारोह करते हैं और वहां शांति पूजा भी करते हैं। जिस घर में माता-पिता नाराज रहते हैं, वे भी इस दिन शांति का पाठ कराकर अपने गुस्से को दूर करने का प्रयास करते हैं। साथ ही अमीर लोग इस दिन गंगा स्नान के लिए गंगाघाट पहुंचते हैं।

snan 1
वृषभ संक्रांति(ऋषभ संक्रांति) 5
  • इस दिन दूध के रूप में उत्तम उपहार देने वाली गायें अत्यंत शुभ मानी जाती हैं। इसलिए भक्त इस दिन गौ पूजन अवश्य करते हैं। इसके अलावा, भक्त विष्णु मंदिर भी जाते हैं और भगवान विष्णु से प्रार्थना करते हैं और भगवान का आशीर्वाद मांगते हैं।
  • इस प्रकार, इस संक्रांति के लिए पूरे देश में विशेष तैयारी की जाती है, क्योंकि इस दिन भक्त नदी में जाते हैं और स्नान करते हैं। इस दिन गंगा नदी के तट एक बड़े उत्सव के समान हो जाते हैं।
  • उड़ीसा में इस दिन को विशेष पितृ तर्पण दिवस भी माना जाता है। वहां के लोग अपने घरों से पास की नदी में जाते हैं और अपने घर पहुंचे पूर्वजों को तर्पण करते हैं। वे इस स्नान और तर्पण विधि को गोचर स्नान कहते हैं, जो विशेष रूप से परिवार के पूर्वजों की आत्मा को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है।
  • शास्त्रों में भी इस दिन भगवान सूर्यनारायण की पूजा का विशेष महत्व बताया गया है।
  • कहा जाता है कि यदि आप प्रतिदिन सूर्यनारायण को जल नहीं चढ़ाते हैं तो ठीक है, लेकिन इस दिन आपको सुबह जल्दी उठकर स्नान करके सूर्यनारायण को जल चढ़ाना चाहिए।
  • बहुत से लोग इस दिन विशेष रूप से भगवान जगन्नाथ के दर्शन करने के लिए पुरी जाते हैं, क्योंकि पुरी में वृषभ संक्रांति का दिन विशेष रूप से मनाया जाता है, इसलिए लोग यहां दर्शन के लिए आते हैं। यहां पुरी घाट पर सूर्योदय से पहले स्नानादि पारवरी में लोग सबसे पहले सूर्य नारायण को जल चढ़ाते हैं, उनका आशीर्वाद लेने के बाद भगवान विष्णु से आशीर्वाद लेने के लिए जगन्नाथ मंदिर जाते हैं।
  • इस दिन सूर्य नारायण की पूजा का विशेष महत्व माना जाता है, क्योंकि इस दिन सूर्य एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करता है। फिर उनकी पूजा करने के बाद लोग इस प्रकार प्रार्थना करते हैं, हे प्रभु! आप नई राशि में प्रवेश करके सभी जातकों को उसका शुभ फल देते हैं, जिससे किसी को भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है।
  • जबकि शिवजी और नंदी महाराज की पूजा सभी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए की जाती है। इसलिए विष्णु को भगवान विष्णु के रूप में पूजा जाता है, भगवान कृष्ण के एक रूप ने अर्जुन को एक सारथी बनकर सत्य का चयन करना सिखाया, ताकि लोगों को सत्य चुनने के मार्ग से निर्देशित किया जा सके।
Surya Bhagwan Wallpaper hd 1
वृषभ संक्रांति(ऋषभ संक्रांति) 6

आप भी इस शुभ दिन पर व्रत रखकर सूर्य देव को प्रसन्न कर सकते हैं। चूंकि सूर्य नारायण एक नई राशि में प्रवेश कर रहे हैं, इसलिए हर राशि के जातकों को यह भी प्रार्थना करनी चाहिए कि इस नई राशि में सूर्य नारायण बिराजी बहुत शुभ फल दें। प्रात:काल उठकर स्नान आदि करने के बाद जल से सूर्यनारायण को पांच माला अर्पित करें और भगवान विष्णु के चरणों में सिर झुकाकर प्रार्थना करें कि वे आपको सदा सही मार्ग पर चलना सिखाएं। मन को प्रसन्न करने और देवता को प्रसन्न करने के लिए इस शुभ दिन पर यह अवश्य करें।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

श्री संतोषी माँ चालीसा Santoshi Chalisa Lyrics

श्री संतोषी माँ चालीसा Shri Santoshi Maa Chalisa Lyrics...

हनुमान चालीसा संस्कृत Hanuman Chalisa Sanskrit

हनुमान चालीसा संस्कृत Hanuman Chalisa Sanskrit हनुमान चालीसा संस्कृत Hanuman Chalisa...

वाजश्रवस ऋषि

कठोपनिषद के प्रथम अध्याय के प्रथम श्लोक मे ऋषि...

ऋषि, मुनि, साधु और संन्यासी में क्या अंतर है ? (Diffrence between Rishi, Muni, and Shanyashi ?)

भारत में प्राचीन काल से ही ऋषि मुनियों का...
Translate »
error: Content is protected !!